आज थम से बारिश हुई

मुंतज़िर मारवाड़ी

Saturday, 23 May, 2020

Share Now
facebook-new.png
facebook-messenger.png
twitter.png
whatsapp.png

आज थम से बारिश हुई


आज उनकी याद फिर आयी



ऐसा लगा रो रहा है खुदा भी


खुदा को भी मेरी हालत पर दया आयी


जब देखा दो पन्छियो के जोड़े को


मुझे अपने बीते लम्हातो की याद आयी


याद आया वो पल जब हम साथ थे


वो हम, वो जगह फिर याद आयी



आज थम से बारिश हुई


आज उनकी याद फिर आयी



जब आया मोसम सावन का, जो गिरी दो बूंदे चेहरे पर


भीगी ज़ुल्फो मे छुपा वो मासूम सा चेहरा, फिर याद आया


वो मोसम , उनकी नादानिया फिर याद आयी



आज थम से बारिश हुई


आज उनकी याद फिर आयी



फिर वक़्त आया शाम ए अलम का


तेरे रुखसत का वो वक़्त भी याद आया


जब हम दोनो की ना बात हुई


थे चेहरे उदास हमारे


पर फिर भी होंठो पे ना वो बात आयी


आज उस चुप्पी की सज़ा बहुत याद आयी



आज थम से बारिश हुई


आज उनकी याद फिर आयी