बहुत रोका उनको पर कुछ आँसू बग़ावत कर गये

Saturday, 23 May, 2020

बहुत रोका उनको पर कुछ आँसू बग़ावत कर गये


ना चाहते हुए भी ...वो आज आँखो से रिहा हो गये



बेवफा वो थे...आज ये भी बेवफा हो गये


गमो का सहारा था अब तक ....आज वो भी कुछ कम हो गये



कितने फरमोश थे ये कल तक....आज क्यु ये बाघी बन गये


लालच दिया इनको इतना ...फिर भी चेहरे पर  क्यु ये आ गये



क्यू है तेरी यादे इतनी सख़्त ...के ये आँसू बेपरवाह हो गये


जो कल तक थे मेरे हमदर्द...आज ये भी तेरे हो गये



पार कर आज सारी सरहदे ...आज ये अलविदा हो गये


छोड़ गये वो चार अश्क तो क्या....


याद करके फिर तुमको....फिर एक समुंदर हम आँखो तक ले गये